उ0प्र0शासन द्वारा निर्माण एजेन्सी के रूप में मान्यता प्रदान किये जाने के उपरान्त यू0पी0आर0एन0एस0एस0 अपने मूल कार्यांे सहकारी शीतगृहों,कृषि सेवाई केन्द्रांे,प्रक्रिया इकाइयों एवं उनके प्लान्ट मशीनरी आदि की वार्षिक ओवर हालिंग/मरम्मत कराने तथा उनके संचालन में तकनीकी मार्गदर्शन देने के साथ मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा अधिकृत निर्माण एजेन्सी के रूप में निम्नलिखित 33 निर्माण प्रखण्डों के माध्यम से सिविल निर्माण कार्य करा रहा है-

क्रम सं0 प्रखण्ड का नाम क्रम सं0  प्रखण्ड का नाम
 01 आगरा-प्रथम  18 चित्रकूट 
 02  आगरा-द्वितीय  19 गोण्डा-प्रथम 
 03 अलीगढ़-प्रथम   20  गोण्डा-द्वितीय
 04 अलीगढ़-द्वितीय   21  फैजाबाद-प्रथम
 05 इलाहाबाद-प्रथम   22  फैजाबाद-द्वितीय
 06  इलाहाबाद-द्वितीय  23  सहारनपुर
 07  आजमगढ़  24  गोरखपुर
 08 बरेली-प्रथम  25  झाॅसी
 09 बरेली-द्वितीय  26  मिर्जापुर
 10 बस्ती  27  वाराणसी-प्रथम
 11 मेरठ-प्रथम  28 वाराणसी-द्वितीय 
 12 मेरठ-द्वितीय  29  मुख्यालय प्रखण्ड
 13 मुरादाबाद-प्रथम  30  लखनऊ-प्रथम
 14 मुरादाबाद-द्वितीय  31  लखनऊ-द्वितीय
 15 कानपुर-प्रथम  32 लखनऊ-तृतीय 
 16 कानपुर-द्वितीय  33 अनुरक्षण प्रखण्ड(कानपुर) 
 17 कानपुर-तृतीय    


उक्त शासनादेश की व्यवस्थाओं के अनुसार पैकफेड द्वारा अब तक निम्नलिखित विभागो/संस्थानों के निर्माण कार्य कराये जा रहे हैं -


क्र0सं0

विभाग का नाम

क्र0सं0

विभाग का नाम

1

 गृह विभाग   

  18    

 अल्पसंख्यक कल्याण

2

स्वास्थ्य एवं चिकित्सा 

  19   

 जिला योजना(पेंशन) 

3

 पर्यटन विभाग   

20

 शिक्षा विभाग

4

पशुपालन विभाग

21

रेशम विभाग 

5

राजस्व विभाग   

22

दुग्धशाला विकास 

6

युवा कल्याण

23

कारागार

 7

वन विभाग

24

होम्यों एण्ड आयुर्वेदिक चिकित्सा 

8

रिफाइननरी आई0सी0डी0पी0

25

परिवहन विभाग

 9

इफको

26

सहकारी बैंक

10

महिला कल्याण

27

सहकारी समितिया

11

खनिज पिभाग

28

कृषि एव कृषि शिक्षां

12

हथकरघा

29

भण्डारागार निगम

13

एफ0सी0आई

30

इफको

14

खेल विभाग

31

श्रम विभाग

 15

खनिज विभाग

32

पूर्वाचंल निदेशालय(उत्तरांचल)

16

चिकित्सा शिक्षा

33

गैस विभाग (गैस एथारिटी यूपिका)

17

व्यापार कर विभाग

34

पुनर्वास निदेशालय

Please publish modules in offcanvas position.